Search any song here

Doha for Thaatt

ठाटों का स्वरूप दोहा में

भैरव भैरवि आसावरी, यमन बिलावल ठाट।

तोड़ी काफ़ी मारवा, पूर्वी और खमाज।।

शुद्ध सुरन की बिलावल, कोमल निषाद खमाज

म तीवर स्वर यमन मेल, ग नि मृदु काफ़ी ठाट।।

गधनि कोमल से आसावरी, रे ध मृदु भैरव रूप।।

रे कोमल चढ़ती मध्यम, मारवा ठाट अनूप।।

उतरत रे ग ध अरु नी से, सोहत ठाट भैरवी।।

तोड़ी में रेग धम विकृत, रेधम विकृत ठाट पूर्वी।।

thaat

Share this article :

0 comments:

Post a Comment