सम

सम ताल के आरंभ को कहते हैं। सम सदैव किसी भी ताल की पहली मात्रा पर आती है और इसके आने पर गायन-वादन में स्वाभाविक जोर व आकर्षण पैदा हो जाता है। सम यदि अपने स्थान पर नहीं आई तो सारा मजा फीका हो जाता है और साधारण श्रोताओं की समझ में आ जाता है कि कहीं कुछ बिगड़ गया है।

Share this article :

0 comments:

Post a Comment